Breaking News

header ads
header ads

Short Motivational story in hindi for 17 years old students | जब लगे की सब कुछ छोड़ दें | Nick Vujicic motivational story in hindi with moral

जब लगे की सब कुछ छोड़ दें
Short Motivational story in hindi for 17 years old students
Nick Vujicic motivational story in hindi with moral

short motivational  story in hindi, hindi motivational  story with moral, adda stocks, Hindi  Kahani
    कई बार इंसान बहुत मेहनत कर रहा होता है लेकिन उसे मंजिल नही मिल रही होती और तब लगता है यार सब कुछ छोड़ दू कुछ नहीं हो सकता, मुझसे कुछ नहीं हो पाएगा तब ये स्टोरी (Story) हमेशा याद रखना मेरे दोस्त।

     ये कहानी (Story) है एक ऐसे इंसान की जिसके जन्म लेते ही उसके मां बाप रोने लगते हैं कि ये बच्चा इस दुनिया में कैसे रह पायेगा क्योंकि इसके न हाथ हैं और न ही पैर।

     ये सच्ची कहानी (True story) है एक ऐसे व्‍यक्ति की जिसके हाथ और पैर एक मछली की तरह बहुत ही छोटे हैं। इस कहानी (Story) से आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा बस अपना नजरिया (Attitude) सही रखें।

हिन्‍दी रोचक कहानियां :-

  1. भोले-भाले गणेश की प्रेरणा दायक कहानी (Best motivational story with moral)
  2. गुरू की महीमा (Network marketing motivational story in hindi)
  3. बंदर को कैसे पकड़ते हैं (Motivational story in hindi)?
  4. कुम्‍हार की अ‍द्भुत कहानी (Motivational story in hindi)।
  5. जो हुआ अच्‍छा हुआ (Motivational story in hindi)।
  6. चूहे की कहानी (Motivational story in hindi)।
  7. नजरिया ही सफलता की चाबी है (Motivational story in hindi)।
  8. बुजुर्ग व्‍यापारी की जबरदस्‍त मोटिवेशनल स्‍टोरी 2024 (5 Best Motivational Quotes in hindi)

    एक जरूरी बात यह है कि इस कहानी (Story) को पूरा पढ़ें क्‍योंकि अधूरा ज्ञान बहुत ही खतरनाक होता है।

हिंदी कहानी (Motivational story in hindi):-


    यह कहानी (Story) एक ऐसे व्‍यक्ति के बारे में है जिसका जन्‍म ऑस्‍ट्रलिया में हुआ जब उस बच्‍चे का जन्‍म हुआ तो उस बच्‍चे को देखकर डॉक्‍टर भी हैरान हो रह गए।
short motivational story, motivational story in hindi, hindi kahani

    जब उस बच्‍चे का उपचार हुआ तो पता चला कि उस बच्‍चे का जन्‍म टेट्रा-अमेलिया सिंड्रोम नामक दुर्लभ विकार के साथ हुआ है जिसमें हाथ और पैरों की अनुपस्थिति होती है।

    ऐसे में डॉक्‍टरर्स को बहुत दुख हुआ और इस बारे में उनके माता पिता से बात कि जब उस बच्‍चे के बारे में डॉक्‍टरर्स ने बताया तो उस बच्‍चे के माता पिता रोने लगे कि हमारा बच्‍चा इस दुनिया में बिना हाथ पैर के कैसे रहेगा।

    तो उस बच्‍चे के माता पिता ने बहुत सोच समझकर डॉक्‍टर से यूथेनेसिया (इच्‍छामृत्‍यु) के बारे में बोला कि हमारा बच्‍चा इस दुनिया में नहीं रह पायेगा क्‍योंकि बिना हाथ पैर के इस दुनिया में रहना उस बच्‍चे के लिए बहुत मुश्किल होगा। 

    यह बात सुनकर डॉक्‍टरर्स ने अपनी एक टीम बनाई और उस बच्‍चे का दोबारा से चेकअप किया गया और एक रिपोर्ट तैयार कि गई।

    जब डॉक्‍टरर्स रिपोर्ट लेकर बाहर आये तो उस बच्‍चे के माता पिता ने फिर से यूथेनेसिया (इच्‍छामृत्‍यु) के बारे में बोला लेकिन डॉक्‍टरर्स ने साफ मना कर दिया कि ये जो बच्‍चा शरीर से भले ही कमजोर है लेकिन इस बच्‍चे का दिमाग बहुत पावरफुल है और हम इसे यूथेनेसिया (इच्‍छामृत्‍यु) नहीं दे सकते।
Hindi Motivational story, best kahani in hindi, adda stocks
    इस के बाद उस बच्‍चे को लेकर वह माता-पिता अपने घर आ जाते हैं और उस बच्‍चे कि अच्‍छे से देखभाल करते हैं लेकिन उन्‍हें उस बच्‍चे को देखकर उस पर दया आती थी और सोचते थे कि हमारे बच्‍चे का हमारे बाद क्‍या होगा, जब इस दुनिया में हम नहीं होंगे तब हमारे बच्‍चे का ख्‍याल कौन रखेगा? 

    वह बच्‍चा धीरे-धीरे बडा होता गया और जब उस बच्‍चे को यह बात पता चली कि उसके माता-पिता ने उस बच्‍चे के लिए यूथेनेसिया (इच्‍छामृत्‍यु) की मांग की थी तो उसे बहुत दुख हुआ।

    उस बच्‍चे ने अब यह निश्‍चय कर लिया था कि कुछ भी हो जाए अब मैं अपने माता-पिता को और परेशान नहीं होने दूंगा और उन्‍हें इस दुख से बाहर निकाल कर ही रहूंगा।

    जब कोई इंसान अपनी स्थिति अपने हालातों से लड़ने की ठान लेता है उसी वक्‍त से उस इंसान कि जिंदगी में परिवर्तन आने लग जाता है और ऐसा ही कुछ उस बच्‍चे के साथ हुआ। 

    उस बच्‍चे ने ठान लिया कि मुझे पूरी दूनिया में अपनी एक पहचान बनानी है और उसने यह कर के दिखा दिया। आज वह बच्‍चा पूरी दुनिया में एक मोटिवेशनल स्‍पीकर (Motivational Speaker) के रूप में जाना जाता है जिसके लाखों-करोड़ों चाहने वाले हैं।
Hindi Kahaniyan, Hindi Motivational story, best kahani in hindi, adda stocks

    वही बच्‍चा जिसके हाथ-पैर न होने के कारण उसके लिये यूथेनेसिया (Euthanasia) की मांग की गई थी आज वही बच्‍चा पूरी दुनिया में लोगों को मोटिवेट करता है।

    उस सफल व्‍यक्ति का नाम है निकोलस जेम्स वुजिकिक (Nicholas James Vujicic) एक ऑस्ट्रेलियाई अमेरिकी ईसाई इंजीलवादी और सर्बियाई मूल के प्रेरक वक्ता हैं, जो टेट्रा-अमेलिया सिंड्रोम के साथ पैदा हुए हैं, यह एक दुर्लभ विकार है जिसमें हाथ और पैरों की अनुपस्थिति होती है। 

    इतनी बड़ी परेशानी होने के बाद भी निक वुजिकिक ने पूरी दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है तो जाहिर सी बात है दुनिया का हर व्‍यक्ति कुछ भी कर सकता है बस खुद को पहचानने कि देर है।

    आज निक वुजिकिक एक अच्‍छे मोटिवेशनल स्‍पीकर होने के साथ-साथ अच्‍छे स्विमर भी हैं, निक वुजिकिक का यूट्यूब चैनल (Youtube Channel) है जिससे करोड़ों लोग इंस्‍पायर होते हैं।

    जाहिर सी बात है बिना हाथ पैर के भी एक व्‍यक्ति अपनी जिंदगी को इतना इंजोय करता है तो आप तो कुछ भी कर सकते हैं, जिंदगी में हर व्‍यक्ति की एक अलग पहचान होती है और हर इंसान के अंदर कोई न कोई खासियत होती है, बस हमें हमारी खासियत को पहचानना पड़ेगा।
Hindi Kahaniyan, Hindi Motivational story, best kahani in hindi, adda stocks
    और सिर्फ ऐसा एक बार नहीं है कि जब किसी व्‍यक्ति ने अपने विश्‍वास के दम पर दुनिया में अपना नाम कमाया है और अपनी जिंदगी को बदला है ऐसे और भी लोग हैं जिन्‍होंने अपने होंसलों से पूरी दुनिया को आश्‍चर्यचकित कर दिया।

    दुनिया आप पर विश्‍वास करे उससे पहले आप को खुद पर विश्‍वास करना होगा।

सीख (Motivation story Moral):-


        मोरल ऑफ द स्‍टोरी यह है कि कई बार हमें लगता है कि हमें भगवान ने कुछ भी नहीं दिया, हमारी जिंदगी बेकार है, हम कुछ नहीं कर पायेंगे तब ये सोचना चाहिए कि कई लोगों को तो उतना भी नहीं मिला जितना हमें मिला है।

        हमारी एक समस्‍या है कि हमें भगवान से शिकायतें ही रहती हैं जबकि हमें तो भगवान का शुक्रअदा करना चाहिए हर उस चीज का जो उन्‍होंने हमें दी हैं क्‍योंकि कुछ लोगों के पास तो वह आँँखे ही नहीं हैं जो भगवान ने हमें दी हैं, कई लोगों के पास तो मेहनत करने के लिए तो उनके पास हाथ-पैर ही नहीं हाते जो भगवान ने हमे दिये हैं।

    आज के इस दौर में ऐसे कई देश हैं जहां पानी और खाने का कोई ठिकाना नहीं है। हमें भगवान का शुक्र अदा करना चाहिए भगवान ने जो हमें दिया है।

    और जो हमारे पास नहीं है उसे पाने के लिए मेहनत करो। 

इसी तरह की और अच्‍छी सीख देने वाली कहानी के लिए यहां पर क्लिक करें

आपको हमारी ये " Motivational Stories in Hindi / Motivational Stories" कैसी लगी ? कमेंट में अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें।


best dividend stock 2023, addastocks, best dividend share in India, best dividend paying stocks 2023,

   

यह भी पढ़ें:-





तोते का सूप । एकता की ताकत। Motivational story in hindi 2023 । best Hindi Kahaniyan 2023

जो हुआ अच्‍छा हुआ  ।Story in Hindi with moral । जो होता है अच्‍छे के लिए होता है। Hindi Motivational story. 





बंदर को कैसे पकडते हैं ?

सकारात्‍मक नजरिया । Positive attitude. 


Thanks to visit addastocks.com

Post a Comment

0 Comments